सोमवार, अगस्त 03, 2009

दर्द सुई की

नोक बडी तीखी थी ,उस सुई की ,
जहाँ भी चुभती ,
दिल से जान निकाल लेती ,
सुई बडी कमसिन थी ,
अभी तक उसका ब्याह नही हुआ था ,
उसको सभी नाम से बुलाते ,
सुई ,वो सुई ,खुस हो कर वो जवाब देती ,
एक दिन ,पडोसन मांग कर ले गई उसे ,
कई दिन बाद माँ ने पडोसन से सुई अपनी मांगी ,
पडोसन ,खो जाने का बहाना करने लगी ,
माँ को, दाल में कुछ काला नजर आया ,
सुई की जगह कुछ और देने को कहने लगी ,
माँ ने वजह पूछी
पडोसन ने रोते हुए कहा ,
जवानी में , उसका बेटा गुजर गया था ,
उसे किसी लडकी से प्यार था ,
दोनों आपस में इजहार कर चुके थे , सात जन्मों के साथ का ,
आज सपने में ,वो आया था ,
उसके कपडे कई जगह से फटे थे ,
बेटे ने ,सिलने के लिए सुई मांगी मुझसे ,
माँ, अपने आप को रोक नही पाई ,
सुबह,जब माँ उठी, सुई घर में नही थी ,

1 टिप्पणी:

sada ने कहा…

बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति आभार्